SMPS क्या है ? कोनसा best smps है और यह कैसे काम करता है

दोस्तों आज हम जानेंगे की SMPS क्या होता है SMPS का उपयोग कहा किया जाता है और smps का उपयोग क्यों किया जाता है । हम कंप्यूटर तो use करते ही है । लेकिन कभी कभी हमें कंप्यूटर के parts की भी जानकारी नहीं होती है इसीलिए में आज आपको कंप्यूटर के मुख्य पार्ट जो की कंप्यूटर में power सप्लाई का काम करता है के बारे में जानकारी देने वाला हु ।

smps kya hai or kaise kam krta hai

इस पोस्ट के माध्यम से आप जानेंगे की आखिर SMPS कैसे काम करता है और कंप्यूटर में SMPS की जरुरत क्यों पड़ती है । इसके साथ ही आप यह भी जानेंगे की smps कितने प्रकार के होते है और इनमें क्या अंतर होता है । आजकल एक अच्छा कंप्यूटर ओपेरटर होने के साथ साथ आपको कंप्यूटर के बेसिक पार्ट की जानकारी भी होना बहुत ज़रुरी हो गया है जिससे की आप किसी मुश्किल परिस्थिति में इन पार्ट्स के बारे में जान सके और आसानी से उनको replace कर सके ।

SMPS kya hai

SMPS एक electricity distribution उपकरण है जो कंप्यूटर के विभिन्न हार्डवेयर को उनकी operating voltage के हिसाब से electricity प्रदान करता है । कंप्यूटर में सप्लाई का मुख्य काम smps ही करता है और यह AC voltage को DC में बदल कर supply करता है । smps photo

दोस्तों आप सोच रहे होंगे की without SMPS के हम कंप्यूटर नहीं चला सकते ? तो हाँ कंप्यूटर डायरेक्ट करंट (DC current) से चलता है । जो हमारे घरों में बिजली आती है वह AC होती है । SPMS, AC करंट को DC में convert करता है । SMPS ही कंप्यूटर के सभी parts में उनके जरुरत के अनुसार बिजली पहुंचाता है । दोस्तों अब आपके समझ में आ गया होगा की एसएमपीएस क्या है और इसका उपयोग क्यों किया जाता है ।

SMPS full form

दोस्तों आप कंप्यूटर की फील्ड में अपने आपको उसमें देखते हो । तो आपको एसी मिस्टेक कभी नहीं करनी है । guys आपको SMPS ki full form तो पता ही होगी but यदि आपको पता नहीं है तो आप बहुत बड़ी मिस्टेक कर रहे है ।

SMPS की full form “Switched Mode Power Supply”  होती है जिसका हिंदी अर्थ “स्विच मोड बिजली की आपूर्ति” यानि जरूरत के हिसाब से अलग अलग voltage range पर power supply करना ।

SMPS के प्रकार ( types of SMPS in hindi )

दोस्तो साधारणत: SMPS के 4(four) प्रकार के होते है ।

  1. AC से DC Converter
  2. Forward Converter
  3. Flyback Converter
  4. Self – Oscillating Flyback Converter

AC से DC Converter

यह एक विशेष प्रकार का SMPS converter होता है । यह उच्च AC voltage को step Down Transformer के primary coiling से गुजारा जाता है जो कि 50 HZ का होता है । फिर ये secondary coil से output voltage के रूप में भेजा जाता है जिसे बाद में दिष्टकारी की मदद से DC voltage में कन्वर्ट कर लिया जाता है । इसकी help से हम voltage को control कर लेते है ।

read this : CPU क्या है ? CPU के पार्ट, कार्यप्रणाली और उनकी जानकारी

Forward Converter

यह भी एक तरह का SMPS converter है जो choke के द्वारा करंट को ट्रांसमिट करता है । यह ट्रांजिस्टर अपने आप काम करता है । जब ट्रांजिस्टर पूरी तरह बंद हो जाता है तो diode बिजली को प्रसारित करता है । इस तरह दोनों अवधि के दौरान लोड में बिजली का प्रवाह होता है । but choke बिजली के संग्रहीत रखता है । choke भंडार ऊर्जा ON Period के दौरान और कुछ ऊर्जा को output Load में send करता है ।

Flyback converter

इस SMPS converter में जब switch on रहता है । तो Inductor चुम्बकीय फील्ड Energy स्टोर करता है । जब switch on स्थिति में है तो voltage सर्किट में उर्जा उत्पादन खाली होती है । इसका काम Duty Cycle Output voltage को नियंत्रित करना है ।

Self – oscillating Flyback converter

Flyback के सिद्धांत के आधार पर यह सबसे normal converter है । Conduction Time के दौरान switching Transistor रैखिक रूप में एक slope के रूप में बढ़ता है जो कि Vin/Lp होता है ।

दोस्तों SMPS kya hai उसके प्रकार के बारे में तो हमने जान लिया है अब आगे दोस्तों में इसके Connectors के बारे में बताते है ।

SMPS connectors

SMPS power connectors का उपयोग एक सम्पूर्ण सिस्टम के विभिन्न घटकों ( Components ) जैसे कि Motherboard , hard disk drive and other Components में को power supply करता है । power connectors DC voltage को ले जाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक बिजली Connector है । SMPS connectors 5 types के होते है ।

  1. ATX power connectors
  2. 24 pin SMPS connectors
  3. standard peripheral power connectors
  4. Sata power connectors
  5. PCI – E pin connectors

ATX power connectors

दोस्तों यह 20 pin वाला connectors है । जिसमें से ६ प्रकार के voltage बहार आते है ATX का उपयोग हम motherboard को power supply करने के लिए करते है । pin पर तार पर सबंधित voltage दर्शाता है ।

24 pin SMPS connectors

दोस्तों यह 24 pin SMPS connectors power की ATX शैली के साथ बनाया गया है । इस connectors को motherboard को बिजली को पूरा करने के किया जाता है । इसलिए इसे कंप्यूटर मुख्य शक्ति connector कहा जाता है इसमें 24 pin SMPS connectors में 4 अलग से pin है जो 20 pin connector की तुलना में अलग अलग voltage लेते है । pin नंबर 11 , 12 and 23 + 12 V , + 3। 3 V and + 5 V और pin नंबर 24 को ग्राउंड के रूप में उपयोग किया जाता है ।

read this : What is Tally in hindi – tally क्या होता है ?

standard peripheral power connectors

disk drive power connectors 4 तार connectors का उपयोग करते है । जिन्हें आमतौर पर MOLEX connector कहा जाता है hard drive disk , CD /DVD drive molex connectors का उपयोग करते है I pin के तारों के रंग उनके संबधित voltage को दर्शाता है ।

Sata power connectors

Sata power connectors की फुल फॉर्म ( Serial Advanced technology Attachment )power connector के द्वारा कंप्यूटर के hard drive disk , CD /DVD drive को connect करने और power supply करने के लिए होता है । यह एक pin 15 कनेक्टर होता है । बड़ी संख्या में pin का उपयोग तीन अलग अलग voltage 3। 3 V , 5 V और 12 V के लिए किया जाता है । प्रत्येक voltage को तीन pin द्वारा एकत्रित किया जाता है और ग्राउंड के लिए 6 pin होते है ।

PCI – E pin connectors

PCI – e cable का इस्तेमाल PCI Express motherboard slots को अतिरिक्त 12 volte को शक्ति प्रदान करने के लिए किया जाता है इन्हें कभी कभी PCI एक्सप्रेस cable या PEG ( PCI Express Graphics ) cable कहते है ।

power supply के प्रकार 

मुख्यत: पॉवर सप्लाई उनके उपयोग और कार्यशेली के आधार पर दो प्रकार के होते है :

1)AT power Supply

दोस्तों आजकल AT power supply का उपयोग बहुत ही कम होता है । इसमें 2, 6-6 pin के connectors होते है जिसके जरिये हम motherboard को connect कर सकते है ।

2)ATX power supply

दोस्तों आजकल हम अपने कंप्यूटर में ATX power supply का इस्तेमाल कर रहे है । इसमें 20 pin के connectors होते है और एक connectors 4 pin का चोकोर होता है । जिसके जरिये हम motherboard को connect करते है दोस्तों ATX power supply का यही काम होता है ।

read this : Linux के क्या फायदे है ?

SMPS Output Voltage कंप्यूटर के विभिन्न घटकों को अलग अलग voltage की आवश्यकता होती है । उसी बिजली को SMPS अलग अलग voltage में प्रदान करता है । SMPS द्वारा प्रदान किये गए विभिन्न प्रकार के voltage नीचे दिये हुए है ।
Blue > – 12 V
White > – 5 V
Black > – 0 V
Red > + 5 V
Yellow > 12 V

SMPS के फायदे और नुकशान

  • SMPS का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह ट्रांसफार्मर की तरह ज्यादा मोटा और बड़ा नहीं है । यह साइज़ में छोटा और भार में हल्का भी है ।
  • यह high frequency पर काम करता है जिसके कारण इसकी output voltage में नॉइज़ effect बहुत काम होता है ।
  • ट्रांसफार्म की अपेछा यह कम ऊष्मा उत्सर्जित करता है । मगर यह इसके कार्य पर निर्भर करता है ।
  • SMPS का सबसे बड़ा नुकशान यह है कि इसे समझाना बहुत ही hard है । यदि यह एक बार आपसे ख़राब भी हो जाये तो यह जितने का आता है उससे ज्यादा तो इसमें पैसे ठीक करने में लग जाते है SMPS हमारे स्वास्थ्य पर भी बुरा असर डालता है क्योंकि यह बहुत ही high Frequency पैदा करता है । जो की हमारी स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक है ।

अंतिम बात

दोस्तों आज की इस पोएट में आपने जाना की smps क्या होता है ये कितने प्रकार के होते है और कैसे काम करते है । आपने इसके आलावा इस पोस्ट में यह भी जाना की smps के क्या फायदे है और क्यों एक tranformer की जगह smps का उपयोग करना सही रहता है ।

दोस्तों कंप्यूटर में हम लोड के हिसाब से smps का उपयोग करते रहते है लेकिन अक्शर हम normal usages के लिए 450 watt के smps को ही सही मानते है क्योकि यह आसानी से हमारे कंप्यूटर का लोड संभाल सकता है और अच्छी से अच्छी परफॉरमेंस दे सकता है ।

आशा करता हु आपको मेरी यह पोस्ट जरुर पसंद आई है अगर अब भी आपको smps के बारे में कोई जानकारी चाहिए या फिर smps लेने में को और सवाल है तो आप हमे कमेंट करके पुछ सकते है ।

Subhash

मेरा नाम subhash dhaka है। मैं हर दिन देश दुनिया, blogging और internet से जुडी जानकारी मेरे इस ब्लॉग hindihelps.com पर upload करता रहता हु।

Leave a Reply